विनय-पिटक में ’भिक्षुणी’ संघ की भूमिका

-दीेपिका कुमारी * प्रस्तावना: बौद्ध दर्शन के तीन महत्वपूर्ण अंग है- बुद्ध, धम्म और संघ। बुद्ध में महात्मा बुद्ध के स्वंय के विचार एंव उपदेश है, धम्म में बुद्ध की...

राजद्रोह कानून और अभिव्यक्ति की आजादी

सरकार की आलोचना और राज्यद्रोह
सबसे पहले यह समझने की दरकार है कि सरकार की आलोचना राजद्रोह नहीं है। मजबूत लोकतंत्र के लिए आलोचना अति आवश्यक है। सरकारी आती है जाती हैं जो कि राज्य बना रहता है। राज्य संविधान से चलता है परंतु देश एक भावना है। आता कई बार सरकार अगर गलत करें तो उसकी आलोचना करना उसका विरोध करना सच्चा राष्ट्रवाद है। साथ ही ये आलोचना हिंसक नहीं होनी चाहिए। लोकतंत्र में हिंसक और हिंसा भड़काने वाली व्यक्ति की कोई जगह नहीं है। स्वस्थ आलोचना की हमेशा तारीफ होनी चाहिए। भारतीय लोकतंत्र को मजबूत करने में श्यामा प्रसाद मुखर्जी, जॉर्ज फर्नांडिस, अटल बिहारी वाजपेई चौधरी चरण सिंह जैसे नेताओं का अहम योगदान है जो सरकार की गलत नीतियों के कट्टर आलोचक थे।

कोरोना और टूट कर घर लौटी जिंदगी।

वह हजारों किलोमीटर पैदल चलकर घर जाने की कोशिश कौन भूल सकता है। कौन भूल सकता है उस मार्मिक दृश्य को, वह बेबसी वह हताशा वह सब खो जाने का डर चेहरे से साफ नजर आते थे। दूसरे कोरोना के लहर ने इस बेबसी की तस्वीर में और अधिक स्याह रंग भर दिया।

The Liberation in Sankhya Philosophy

Indian Philosophy has several doctrines and theories.  One of the six systems of Indian Philosophy is “Samkhya Darshan”. This darshan describes two independent realities-Prakriti and Purusa.  Prakriti is material reality and purusa is inactive,body-less but co-exists with prakriti. In Samkhya darshan not only explain prakriti and purusa theories but also explain liberation should be achieved in right knowledge of reality. In this samkhya darshan illuminate about liberation of self.

Can Universal brotherhood and Collective Consciousness be a way out for COVID?

It may seem ‘idealistic’ to let philosophy pave the path for uncontrollable changes in our lives. However, if we look deeply the answers to the most difficult questions lie within the process of self-introspection and realization. Philosophy meditates the entire process from darkness to light, raveling through the uncharted territories leading towards enlightenment through self-evaluation. It enables us to fight against not only the inner demons but also the surrounding consequences.

Coronavirus: The role of Philosophy in the time of crisis

In the rise of COVID-19 virus, uncertain prognosis, shortage of medical resources, and imposition of strict public health measures, such as isolation and restriction to movements contribute to widespread depression, anxiety, and fear among all. Though these measures are the only way to curb the spread of the virus, Indian philosophical principles have an important role in addressing these emotional outcomes arising due to the pandemic. In this essay, I shall discuss about the yogic principles of asanas, and the spiritual effect of meditation to promote physical and psychological well being of an individual. Further, I will address the Vedanta and Jain principle of ‘Vasudhaiva Kutumbakam’ which has positive implications in the fight against the